• Tue. Jun 18th, 2024

विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस है। इस अवसर पर नालन्दा हड्डी एवं रीढ़ सेंटर प्रा० लि० में BMD टेस्ट का किया गया आयोजन

Oct 21, 2023

सिटी न्यूज़ डेस्क ।नालंदा हड्डी एवं रीढ़ सेंटर में विश्व ऑर्थोपेडिक्स दिवस के मौके पर बीएमडी जांच का आयोजन किया गया इस दौरान बताया गया कि हड्डियों के चयापचय से जुडी एक ऐसी बीमारी है जिसके कारण हड्डियों के घनत्व में कमी हो जाती है और उनके टूटने की संभावना बढ़ जाती है जिसके परिणाम स्वरूप फ्रैक्चर होते हैं।

इस घनत्व की कमी को जानने के लिए 40 साल की आयु के बाद हर किसी को बोन मिनरल डेंसित टेस्ट BMD टेस्ट कराना चाहिए क्योकि ऑस्टियोपोरोसिस एक , साइलेंट डिजीज है और अधिकांश लोग में फ्रैक्चर होने पर ही इस रोग का पता चलता है। महिलाओं में यह रोग पुरुषों की अपेक्षा ज्यादा होता है।

नालंदा हड्डी एवं रीढ़ सेंटर प्रा० लि० में BMD टेस्ट की सुविधा हर महीने के 20

तारीख को प्रदान की जाती है। पर 20 अक्टूबर का दिन खास है अतः विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस के अवसर या मुख्य चिकित्सक, डॉ० दीप नारायण द्वारा प्रातः मरीजों से संवाद कर मरीजों को ऑस्टियोपोरोसिस के कारण कुमार अमर खतरे एवं बचाव के बारे में बताते हुए BMD टेस्ट की जानकारी दी गई और लगभग 200 मरीजों का BMD टेस्ट पूरे दिनभर में किया गया। साथ ही अस्पताल कर्मियों के लिए पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमे अस्पताल के हर विभाग ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और अपनी जागरूकता का परिचय दिया। शाम में अस्पताल कर्मियों के लिए CME के तहत ऑस्टियोपोरोसिस पर एक व्याख्यान का का आयोजन किया गया जिसमे मुख्य चिकित्सक, डॉ० कुमार अमर दीप नारायण द्वारा OP से जुड़ी हर पहलू की जानकारी दी गई। इस प्रकार विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस पर न सिर्फ मरीज बल्कि स्वास्थ्य कर्मियों की जागरूकता के साथ ज्ञानवर्धन का कार्यक्रम आयोजित कर सामाजिक जागरूकता कार्यक्रम को बढ़ाते हु आगे बढ़ाया। नालंदा हड्डी एवं रीढ़ सेंटर प्रा० लि० ने शिक्षा जागरूकता अभियान में अपनी भागीदारी निभा रही है ।

RSS
Follow by Email
YouTube
Telegram
WhatsApp
FbMessenger